उनके शब्दों में

  • "व्यापार समाज में अच्छाई के लिए एक विशाल शक्ति का गठन कर सकता है। कार्पोरेट नागरिकत्व और संयुक्त राष्ट्र ग्लोबल कॉम्पैक्ट के सिद्धांतों के प्रति प्रतिबद्धता के माध्यम से, वैश्विक व्यापार समुदाय समाज के लिए मूल्य का निर्माण और बांटना जारी रख सकता है।"
    पैलेस डी नेशंस, जिनेवा, स्विटजरलैंड में 5 जुलाई, 2007 को यूएन ग्लोबल कॉम्पैक्ट लीडर्स शिखर सम्मेलन

  • " प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण के लिए औद्योगिक और बौद्धिक संपदा की रक्षा के लिए प्रणाली का निर्माण आवश्यक है और परिणामस्वरूप राष्ट्रीय प्रौद्योगिकियों का पुनरुत्थान होगा।"

  • "उन्नत देशों के आगे बढ़ना एक विकल्प नहीं है, बल्कि राष्ट्रीय कर्तव्य है। अन्य चीजों के अलावा, इसके लिए सभी चुनौतियों के बावजूद विशेषकर संक्रमण चरण में जिसे हमें स्वीकार करना है सबसे अच्छा औद्योगिक संपदा संरक्षण प्रणालियां बनाने की आवश्यकता है।
    28 नवंबर, 1999 को अरब देशों में अम्मान, जॉर्डन में औद्योगिक संपत्ति और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण पर राष्ट्रीय संगोष्ठी

  • "संयुक्त राष्ट्र जैसे संस्थानों से समर्थन के साथ-साथ दाता समुदाय के द्वारा, सरकार अपनी राष्ट्रीय तकनीकी और वैज्ञानिक क्षमताओं को अनुसंधान प्रौद्योगिकियों को जोड़ने के लिए नीतियों को तैयार कर, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण को प्रोत्साहित कर और शिक्षा व सहयोगी परियोजनाओं के माध्यम से स्वदेशी क्षमताओं का निर्माण कर मजबूत कर सकती है।"
    मई 23, 2005, को पैलेस डी नेशंस, जिनेवा, स्विट्जरलैंड में विकास के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर संयुक्त राष्ट्र आयोग का आठवां सत्र

  • "भविष्य के निर्माण और भविष्य निधि के लिए राह बनाना, वर्तमान और भविष्य के युवाओं के हाथों में हैं, और ठोस वैज्ञानिक नींव के आधार पर राष्ट्र के संस्थानों के पुनर्निर्माण पर निर्भर हैं, और इन सभी के लिए संपन्न मानवीय क्षमता की आवश्यकता होगी जो कॉलेज स्नातकों से प्राप्त की जा सकती है। विश्वविद्यालय मनुष्य के निर्माता हैं, हम उनकी भूमिका और उनके प्रशासकों के प्रयासों पर गर्व महसूस करते हैं।"
    8 मई 2005, को गाजा के इस्लामी विश्वविद्यालय, गाजा, फिलिस्तीन के वाणिज्यक फैकल्टी के प्रथम वैज्ञानिक सम्मेलन में

  • "एक कुशल दूरसंचार नेटवर्क वह नींव है जिस पर सूचना समाज बनाया गया है।"
    21 मार्च, 2004 को अरब आईसीटी नियामक फोरम, मोवेनपीक मृत सागर, जॉर्डन में

  • "युगों से मानव अनुभव सीखने, सूचना और संचार के माध्यम से बढ़ता रहा है।"

  • "एक स्वस्थ, रचनात्मक, खुला, बढ़ता, सीखने वाला समाज, स्वतः ही इस तरह के व्यक्तियों को निर्मित और विकसित करेगा, जिसकी समाज को जरूरत है। यह आसान और स्वाभाविक तरीके से आर्थिक और सामाजिक विकास में समायोजन करेगा। यह हम जौसे निजी क्षेत्र के लोगों के साथ-साथ सरकार और नागरिक समाज को एक दूसरे के साथ बातचीत करने और सकारात्मक तरीके से समाज की जरूरतों को पूरा करने की इजाज़त देगा।"
    6 जनवरी, 2004, विश्व बैंक वीडियो श्रृंखला, अम्मान, जॉर्डन

  • "हाल के वर्षों में तकनीकी उन्नति और आर्थिक एकीकरण की बढ़ती गति ने बौद्धिक संपदा के महत्व को उजागर किया है और स्थापित राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रणालियों की क्षमता पर जोर देता है जो प्रभावी ढंग से वैश्विक समुदाय की सेवा के लिए आईपी अधिकारों का संचालन करते हैं।"
    11 अगस्त, 2003, को जॉर्डन आईपी सप्ताह सम्मेलन, अम्मान, जॉर्डन, में

  • "इस शताब्दी में, तकनीक मस्तिष्क पर ध्यान केंद्रित करेगी, जिनकी दिव्य क्षमता अभी महसूस की जानी बाकी है।"

  • "सूचना क्रांति हमें ज्ञान क्रांति के माध्यम से बुद्धिमत्ता क्रांति तक ले जाएगी।"

  • "ई-बिजनेस 20 साल में वर्चुअल मार्केट स्थान बन जाएगा।"

  • "इंटरनेट प्लंबिंग के साल पूरे हो चुके हैं – इंटरनेट के बुधिमत्ता पूर्ण साल आगे हैं।"

  • "टेक्नोलॉजी सिर्फ एक जोड़ नहीं है: यह अधिकटार तीव्रतापूर्ण है। एक आविष्कार आम तौर पर अन्य आविष्कारों को ट्रिगर करता है।"

  • "इन्फोस्फीयर जिसकी ओर हम जिस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, वह विकसित क्षेत्र में होने के स्वाभाविक जोखिम हैं। जब तक हम 20% और 80% वैश्विक आबादी के बीच तकनीकी खाई को भर नहीं लेते, हम एक बदसूरत दुनिया की ओर बुरे परिणामों के साथ बढ़ रहे हैं।"

  • "दुनिया भर के लोगों को मूल साक्षरता और शिक्षा प्रदान करने का लक्ष्य अभी भी विकास की सबसे बुनियादी चुनौती है।"
    14 अक्टूबर 2003, को इंजीनियरिंग और डिजिटल डिवाइड, ट्यूनीशिया की विश्व कांग्रेस में

  • "बौद्धिक पूंजी मुख्य निर्धारण कारक है और किसी भी देश के आर्थिक और सामाजिक विकास के लिए आधार है।"

    “सरकारों को नेतृत्व के लिए आदर्श मॉडल होना चाहिए और सरकारी सेवाओं की दक्षता में सुधार के लिए और आईसीटी उद्योगों को प्रेरित करने के लिए सभी सरकारी विभागों में आईसीटी के उपयोग में सुधार होना चाहिए।"
    15 मई 2000, ईएससीडब्ल्यूए टीम ऑफ एक्सपर्ट्स मीटिंग, अम्मान, जॉर्डन

  • "सबसे बड़ी चुनौती ज्ञान की क्रांति है। आर्थिक शक्ति रचनात्मकता और नवीनता पर निर्भर करती है। धन का निर्माण पारंपरिक संसाधनों से एक परिसंपत्ति की ओर जायेगी : ज्ञान।"
    27 जून, 1 999, क्रैनस मोंटाना फोरम, स्विट्जरलैंड

  • "हम कभी भविष्य के बारे में निश्चित नहीं हो सकते हैं और इसलिए हमें लचीला और बहुमुखी बने रहना चाहिए जिससे कि हम अपने ग्राहकों और हमारे बाज़ार की जरूरतों पर जल्दी से प्रतिक्रिया कर सकें।"

  • "इन सभी वर्षों में और हम जो भी करते हैं, हमने सबसे अधिक ध्यान मानव क्षमता के विकास में दिया है, जिसकी शुरुवात हमारे अपने पेशेवर कर्मचारियों के साथ, और अरब समुदाय को समृद्ध करने के लिए उनकी विशेषज्ञता का लाभ उठाया है। हमने ' ज्ञान श्रमिक' की परिकल्पना को अपनाया है और अपने लोगों को सशक्त बनाने और अरब दुनिया के लोगों को सपने देखने, कल्पना करने और उनका निर्माण करने में सशक्त बनाने की मांग की है।

  • "मेरा मानना है कि मैं भाग्यशाली था कि मैंने सहा है। कुछ लोगों को पता ही नहीं है कि दर्द में, बड़ी संभावनाएं होती हैं, क्योंकि अगर आप किसी भी कारण से वंचित हैं – फिर वह राजनीतिक, वित्तीय, सामाजिक या जो भी कारण हो- परन्तु आप अपनी सोच को सही दिशा में लगा लेते हैं, आप पायेंगे कि आपके लिए बचने का एकमात्र तरीका है श्रेष्ठ होना, श्रेष्ठ होकर आपसे अच्छा व्यवहार होगा।"

  • "मैं अन्य बच्चों के लिए अपवाद होना चाहता था, लेकिन सही मायने में। हमारी दुनिया के हिस्से में हमें बहुत दुःख हैं, लेकिन यह दुख, एक तरह से, आशीर्वाद है। जाहिर है, मैं स्कॉलरशिप के बिना स्कूल नहीं जा सकता था, तो इसका मतलब था कि मुझे इसे हासिल करने के लिए श्रेष्ठ होना ही था।"

  • "हम खुद को "क्षमता-निर्माण" संगठन कहते हैं: आत्म-प्रेरित और स्वयं से शुरू की गई क्षमता निर्माण। उदाहरण के लिए, 30 वर्षों में, मुझे नहीं लगता कि मैंने एक भी चेक पर हस्ताक्षर किए हैं।" कई चुनौतियों के बावजूद जिन्हें हमने झेला है और आगे भी झेल रहे हैं, हम नकारात्मकता या निराशावाद में लिप्त होने से इन्कार करते हैं। हम ऐसे संगठन हैं जो लोगों को उनके बेहतर क्षमता में सशक्त बनाने में विश्वास रखते हैं।"

  • "जब तक आपने दिन भर कड़ी मेहनत नहीं की होगी, तब तक आप रात की नींद का आनंद नहीं ले सकते हैं"

  • "आप सफलता कैसे प्राप्त कर सकते हैं? दो शब्दों से: सही निर्णय"

  • "आप सही निर्णय कैसे करते हैं? एक शब्द से: अनुभव"

  • "आपको अनुभव कैसे मिलता है? दो शब्दों से: गलत निर्णय"